डिंडौरी मध्यप्रदेश

मनरेगा में मशीनों को मिल रही रोजगार, ग्रामीणों ने कलेक्टर से की शिकायत

सबसे पहले शेयर करें

– सरपंच एवं सचिव पर निर्माण कार्य के नाम से फर्जीवाड़ा करने का आरोप
– शासन प्रशासन भृष्टाचार पर अंकुश लगाए नही तो जयस करेगी आंदोलन
– जनपद पंचायत करंजिया अंतर्गत ग्राम पंचायत भलखोहा का मामला

डिंडौरी। जनपद पंचायत करंजिया अंतर्गत ग्राम पंचायत भलखोहा में सरपंच,सचिव एवं रोजगार सहायक के द्वारा निर्माण कार्य के नाम से भारी मात्रा में फर्जीवाड़ा करते हुए लाखो रू मनमानी तरीके से आहरण कर बंदरबाट करने का मामला सामने आया है। एक तरफ सरकार के द्वारा ग्राम पंचायत का संर्वागीण विकास कराने को लेकर तमाम प्रकार की योजनाएं संचालित कर लाखो – करोड़ो रू प्रदान किया जाता है किंतु जनपद पंचायत से लेकर ग्राम पंचायत के जिम्मेदारों ने सभी प्रकार के कार्यो के नाम से भृष्टाचार करते हुए षासकीय संपत्ति को हानि पंहुचाने में कोई कसर नही छोड़ते है। कुछ ऐसा ही मामला जनपद पंचायत करंजिया अंतर्गत ग्राम पंचायत भलखोहा का है,जंहा पर सरपंच,सचिव एवं रोजगार सहायक पर निर्माण कार्यो के नाम पर जमकर आर्थिक अनिमित्ताएं करने का आरोप है। षुक्रवार को ग्रामीणों ने षांतिधाम,षौचालय,तालाब,पीएम आवास एवं अन्य योजनाओं की निर्माण कार्यों की जॉच कराने की मॉग को लेकर कलेक्टर से षिकायत किया है। इस दौरान जयस प्रदेषाध्यक्ष इंद्रपाल मरकाम ,अषोक आर्मो,भुपेंद्र सिंद्राम समेत ग्रामीणजन मौजूद रहै।मजदूरों के जगह मषीनों को मिल रही रोजगार
ग्रामीणों ने बताया है कि ग्राम पंचायत भलखोहा ऊपर टोला में तालाब गहरी करण ,साफ – सफाई एवं मरम्मत कराने हेतु शासन के द्वारा 819896 रू स्वीकृत किया गया था, जिसमें सामाग्री हेतु – 342177 रू है एवं मजदूरी भुगतान हेतु राशि 4,66,000 रु है जो कि जिम्मेदारों के द्वारा मजदुरों को 02 सप्ताह कार्य कराया गया है। बलकि जिम्मेदारों ने 60 घंटे जेसीबी के द्वारा गहरीकरण का कार्य कराया गया है, जिसमें 3,57,980 रु का फर्जी मस्टर रोल जारी कर रोजगार सहायक प्रदीप कुमार मोंगरे के द्वारा फर्जी भुगतान किया गया है।चहेतों को दे रहै पीएम आवास का लाभ
ग्रामीणों ने बताया कि ग्राम पंचायत भलखोहा के रोजगार सहायक ,सचिव एवं सरपंच की साठ – गांठ से शासकीय सेवक (शिक्षक) हरि सिंह मोगरे के पुत्र राजकुमार मोगरे के नाम पर प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत आवास स्वीकृत कर लाभ दिया गया है। जबकि उनका निजी मकान की कीमत लगभग 80 लाख रु है,ऐसे व्यक्ति को पीएम आवास का लाभ प्रदान किया गया है। जबकि ग्राम में ऐसे व्यक्ति भी हैं जिनके पास रहने के लिए घर नहीं है तथा 2014 के सर्वे सूची में जिन जरूरतमंद लोगो का नाम पीएम आवास की सूची में था उनका नाम निरस्त कर पंचायत कर्मियों ने अपने परिवार एवं भाइयों का नाम जोड़कर लाभ दिया गया है। ग्रामीणों ने बताया कि जो व्यक्ति अविवाहित है उनके नाम पर पीएम आवास योजना के तहत आवास स्वीकृत कर आवास का लाभ दिया जा रहा है।षांतिधाम निर्माण कार्य की जॉच कराने की मॉग
ग्रामीणों ने बताया कि ग्राम पंचायत में निर्माण ऐजेंसी के द्वारा षांतिधाम का निर्माण कार्य कराया गया है जो के अपूर्ण है। ग्रामवासियों के द्वारा जनपद पंचायत करंजिया मुख्यकार्यपालन अधिकारी के समक्ष शिकायत किया गया था, किंतु अभी तक जॉच नही किया गया है। ग्रामीणों ने आरोप लगाया है कि उक्त मामले की जॉच नही करने से कही न कहीं जनपद पंचायत सीईओ भी भ्रष्टाचार में लिप्त है जिसके कारण षिकायत की जॉच कर रही है न ही कार्यवाही किया जा रहा है। ग्रामीणों ने सभी प्रकार के निमार्ण कार्यो की जॉच कर भ्रष्टाचार में लिप्त रोजगार सहायक ,सचिव एवं सरपंच के विरूध्द कार्यवाही की मॉग किया है।

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *