शहडोल

वायरस और बेबसी:बंद हुई रोजी रोटी, भुखमरी के कगार पर ग्रामीण

सबसे पहले शेयर करें

बेबस हुए ग्रामीण कोरोना की बढ़ती रफ्तार

चुहिरीगांव में बढ़ रही भुखमरी

 

आशीष त्रिपाठी की रिपोर्ट

शहडोल।

प्रदेश के मुखिया सीएम शिवराज सिंह चौहान का आगमन संभागीय मुख्यालय शहडोल में हुआ, कोरोना की समीक्षा बैठक आयोजित हुई, निर्देश दिए गए ग्रामीण क्षेत्रों में जांच बढ़ाई जाए, जाहिर है ग्रामीण क्षेत्रों को लेकर सीएम डरे हुए हैं।

8 मई को ग्राम चुहिरी में कोरोना जाच के 33 सेंपल लिए गए जिसमें 25 लोग कोरोना संक्रमित पाए गए। इसके बाद 9 तारीख को पुनः जांच की जिसमें 54 सैंपल लिए गए 30 करोना संक्रमित पाए गए ।

स्वास्थ्य विभाग हरकत में आया तुरंत चुहिरी को ऑरेंज जोन घोषित किया गया, और जांच रोक दी गई, लगभग पूरे गांव में सर्दी जुखाम बुखार का प्रकोप छाया हुआ है। जांच में लगभग 70 परसेंट संक्रमित निकल रहे हैं, तो चुहिरी में और जांच की जानी थी, परंतु जांच रोक दी गई ।

इस समय गांव में किल कोरोना सर्वे कराया जा रहा है। जिसमें हर घर में सर्दी बुखार से पीड़ित लोग मिल रहे हैं। परंतु उनकी न तो जांच की जा रही है और ना ही उनको दवा उपलब्ध कराई जा रही है। यहां किट के नाम पर पेरासिटामोल की गोलियां दी जा रही हैं ।आयुष काढ़ा भी यहां वितरण नहीं किया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग की व्यवस्था पूरी तरह से चरमराई हुई है।

यहां 4 से 5 परिवार लगभग पूरी तरह से संक्रमित हैं। उनके घर में कोई बाहर जाकर सामान लाने वाला नहीं है। ऐसी स्थिति में कोरोना संक्रमित व्यक्ति घर के बाहर निकल कर के अपनी जरूरतों को पूरा कर रहे हैं। और प्रशासन इस पर कोई ध्यान नहीं दे रहा है। जब परिवार पूरी तरह से घर मे कैद है। तो अपने घर की जरूरतों को किस तरह से पूरा कर सकता है । और ऐसे लोग जब घर से बाहर निकलते हैं तो उनसे और लोग संक्रमित हो रहे हैं और संक्रमण पूरे गांव में फैल रहा है ।

गांव में कुछ सामान्य परिवार ऐसे भी हैं जहां पर न तो पात्रता पर्ची है और ना ही उनको इस महामारी में कहीं काम मिल रहा है। ऐसे परिवार अपना पालन पोषण किस तरह से करें यह भी एक गंभीर समस्या है। गांव में भुखमरी का आलम है। लोगों को काम नहीं मिल रहा। प्रशासन का ध्यान अपेक्षित है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *