उमरिया

नही होगा निदान तो करेंगे आत्मदाह- आमरण अनशन पर बैठे रिटायर फारेस्ट कर्मी ने कहा

सबसे पहले शेयर करें

उमरिया से प्रतिनिधि अनुज सेन की रिपोर्ट

नही होगा निदान तो करेंगे आत्मदाह- आमरण अनशन पर बैठे रिटायर फारेस्ट कर्मी ने कहा

उमरिया ।जिला लघु वनोपज सहकारी यूनियन कार्यालय में सेवानिवृत्त राजेन्द्र पिता स्व विजय बहादुर सिंह पिछले दो दिनों से अपनी मांगों को लेकर आमरण अनशन पर बैठे है,पर फिलहाल कोई भी अधिकारी इनकी सुध नही ले रहा है।दरअसल स्थाई कर्मी राजेन्द्र सिंह वर्ष 2020 के सितंबर माह में विभाग से सेवानिवृत्त हो गए थे,उनका कहना है कि 11 महीने पश्चात भी ग्रेज्युटी,ईपीएफ आदि की राशि नही मिली है,जिस वजह से आर्थिक नुकसान हो रहा है।उन्होंने बताया कि वेतन से हुई कटौती का भुगतान लंबित है,इसके अलावा 1 सितंबर वर्ष 2020 से लागू होने वाला इंक्रीमेंट भी नही लगाया गया,जिस वजह से उपादान की राशि कम हो गई।उन्होंने यह भी बताया कि प्रधान मुख्य वन संरक्षक के निर्देशानुसार वर्ष 2012 में कुशल श्रमिक कर दिया गया था,मगर बाद में बिना किसी आदेश के अकुशल कर दिया गया है,जिन कारणों से भी उपादान राशि प्रभावित हुई है।इस मामले में गत माह सेवानिवृत्त राजेन्द्र सिंह ने मु.वन.स. वन वृत्त शहडोल को भी लिखित शिकायत दी थी,परन्तु अपेक्षित कार्यवाही न होता देख सोमवार 9 अगस्त से आमरण अनशन पर बैठ गए है,उनका कहना है कि 3 सूत्रीय शिकायतों का समय पर निराकरण नही किया गया तो अगला चरण आत्मदाह का होगा,जिसकी जिम्मेदारी विभाग की होगी।इस मामले में उप वनमंडलाधिकारी आरएन द्विवेदी ने बताया कि आमरण अनशन पर बैठे राजेन्द्र सिंह की समस्या सम्बन्ध में सभी दस्तावेज भोपाल स्थित मुख्य कार्यालय भेजे गए है,जिसका जल्द ही विभागीय रूप से निराकरण किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *