उमरिया

ह्यूमन ट्रैफिकिंग का शिकार हुवा है 5 दिनों से लापता छोटेलाल

सबसे पहले शेयर करें

उमरिया से प्रतिनिधि अनुज सेन की रिपोर्ट

ह्यूमन ट्रैफिकिंग का शिकार हुवा है 5 दिनों से लापता छोटेलाल

पेड़ पर रात बिताई, अब मोबाइल स्विच ऑफ बता रहा है,तलाश में निकले परिजन

थाना इंदवार अंतर्गत ग्राम बचहा निवासी छोटेलाल पिता धूम प्रसाद दाहिया उम्र 19 वर्ष राजस्थान के किसी शहर में ह्यूमन ट्रैफिकिंग का शिकार हो गया है,मोबाइल पर परिजनों को इस बात की जानकारी दिया है,और कहा है कि जिन लोगो ने हमे खरीदा है,वे सब हमारी तलाश कर रहे है,हम उनसे बचने पेड़ पर रात बीता रहे है,उसने मोबाइल की बैटरी भी कम होने की बात कही है,उसके बाद से ही 19 वर्षीय छोटेलाल का मोबाइल स्विच ऑफ है,इस पूरे मामले से दहशत में आया परिवार जब पुलिस के पास पहुंचा तो पुलिस ने उसे वही जाकर शिकायत दर्ज करने की बात कही है,दशहतजदा परिवार गुरुवार की शाम को गाड़ी लेकर बेटे की तलाश में राजस्थान प्रदेश निकल गया है,सवाल इस बात का है कि अगर लापता युवक किसी अनहोनी का शिकार हुवा तो कौन जिम्मेदार होगा।इस मामले में ह्यूमन ट्रैफिकिंग के शिकार युवक को ये भी नही पता है कि वो फिलहाल कहा है,उसने मोबाइल से एक फोटो खींचकर परिवार को सेंड की है,जिसके भरोसे परिवार जन उसकी तलाश में दूसरे प्रदेश सड़क मार्ग से निकल गए है।

ह्यूमन ट्रैफिकिंग में लोकल एजेंट का हाथ … ?

सूत्रों की माने तो इस पूरे मामले का मास्टर माइंड ग्राम कोटरी निवासी विनय पिता मल्लू साहू उम्र 33 वर्ष है,जिसका मोबाइल फिलहाल स्विच ऑफ है।बताया जाता है कि ये रविवार को राजस्थान स्थित किसी फैक्ट्री में नोकरी दिलाने के नाम से पीड़ित युवक को घर से अन्यत्र ले गया था,जिसके बाद पीड़ित युवक ह्यूमन ट्रैफिकिंग का शिकार हुवा है,इसके अलावा सूत्रों की माने तो विनय साहू क़ई सालों से बाहर ही रहता है, जिससे इस तरीके के और मामले में इसकी संलिप्तता का संदेह है।जानकारों की माने तो ह्यूमन ट्रैफिकिंग मामलों में अक्सर लोकल एजेंटों का हाथ होता है,इस मामले में भी यही हुवा है।गुरुवार की देर शाम जिस तरह परिजनों से लापता युवक ने बात की है,और कहा है कि हमारे साथ कभी भी कुछ भी हो सकता है,उनसे बचने हम पेड़ पर बैठ गए है,हालांकि उनके आदमी हमारी तलाश कर रहे है,इसके अलावा उसने यह भी बताया कि मोबाइल में बैटरी नही है,जिस वजह से अब शायद बात भी न हो सके।बेटे से मोबाइल पर हुई इस पूरी बातचीत के बाद परिवार परेशान हो गया,और पुलिस से भी अपेक्षाकृत मदद न मिलने से परिजन खुद ही बेटे की तलाश में निकल गए है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *