मध्यप्रदेश

बुढनेर नदी की सीना छलनी कर रहे रेत खनन माफिया,प्रशासन मौन

सबसे पहले शेयर करें

– दिवारी 02, एवं कमको मोहनिया में स्वीकृत क्षेत्र से बाहर पोकलेन मशीन से किया जा रहा अंधाधुंध खनन
– एनजीटी एवं प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के निर्देशों को दिखा रहे ठेंगा
– बुढनेर नदी की अस्तित्व खतरे में…?
– मध्यप्रदेश सरकार को करोड़ो रूपये राजस्व की हानि पहुँचा रहा ठेकेदार

डिंडौरी। विगत वर्षों में डिंडोरी जिले में उपलब्ध 04 रेत खदानों की सामूहिक नीलामी किये जाने के बाद से ही अधिकृत ठेकेदार केपी सिंह भदौरिया कॉन्ट्रक्टर ग्वालियर के द्वारा मनमानी करते हुए शासन के द्वारा निर्धारित प्रक्रिया एवं नियमो को दरकिनार करते हुए प्राकृतिक संपदा की अंधाधुंध दोहन करते हुए बैखोफ होकर नदी के अस्तित्व से खिलवाड़ किया जा रहा है। जिले का खनिज विभाग ठेकेदार के साथ कदम से कदम मिलाकर चलते हुए खनिज संपदा के अवैध खनन में अप्रत्यक्ष रूप से भागीदारी निभा रहा है जिससे ठेकेदार के हौसले बुलंद हैं। प्राप्त जानकारी के अनुसार 2020 में ठेकेदार के द्वारा 15 से 20 जुलाई तक मे दिवारी रेत खदान से खनन प्रतिबंधित होने के बाद 511 ट्राली से अधिक रेत निकासी किया था, अवैध खनन की चर्चा होते ही ठेकेदार के द्वारा अज्ञात लोगों के विरूद्ध अवैध भंडारण की शिकायत करते हुए साजिश पूर्वक लगभग 6 लाख रुपये जमा कर अवैध भंडारित रेत को स्वयं ले लिया गया था। इस तरह से खनिज विभाग ठेकेदार पर मेहरबान हैं।


स्वीकृत क्षेत्र से बाहर से अवैध खनन जोरो पर
प्राप्त जानकारी के अनुसार रेत खदान 02 खसरा नम्बर 439 रकबा 4.500 हेक्टेयर क्षेत्र स्वीकृत हैं, उक्त स्वीकृत क्षेत्र में उपलब्ध रेत को ठेकेदार के द्वारा महीनों पहले पोकलेन मशीन लगाकर पूरी तरह से निकाल कर बेच दिया गया था। स्वीकृत नक्शा में बुढनेर नदी की आधा क्षेत्र मंडला जिले की सीमा में आता है, ठेकेदार के द्वारा दिवारी 02 नदी के दोनों तटों को पूरी तरह से साफ करने के बाद लगभग 15 -20 एकड़ अनाधिकृत क्षेत्र जो कि मंडला जिले के परसा टोला एवं वन विभाग के अधीन आता है। ठेकेदार केपी भदौरिया कॉन्ट्रक्टर के द्वारा डिंडोरी जिले के साथ ही।मंडला जिले के अधिकारियों के साथ मिलीभगत किया जाना चर्चा का विषय बना हुआ है।


पोकलेन मशीन से अंधाधुंध दोहन, बुढनेर नदी का अस्तित्व खतरे में
कमको मोहनिया खसरा नम्बर 546 रकबा 6.00हेक्टेयर से भी ठेकेदार के द्वारा धड़ल्ले से रेत खनन किया जा रहा है, उक्त खदान तक पहुंचने के लिए वन क्षेत्र से मार्ग है, ठेकेदार के द्वारा निर्धारित प्रक्रिया को दरकिनार करते हुए वन विभाग से एनओसी नही ली गई है ,ग्रामीणों के द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार बैगेर ग्राम सभा के प्रस्ताव के ठेकेदार के द्वारा पोकलेन मशीन से दिन रात खनन कर कमको मोहनिया में रेत डंप किया जा रहा है।

इनका कहना है,,

कांग्रेस जिलाध्यक्ष वीरेंद्र बिहारी शुक्ला ने सोसल मीडिया में टिप्पणी करते हुए बड़ा आरोप लगाया है कि शिवराज सिंह सरकार की रेत माफिया और शराब माफियाओं के साथ खुली सांठगांठ है। राजस्व प्राप्ति के नाम पर हमारी नदियों एवं प्रकृति के साथ खुली छेड़छाड़ की जा रही है। अवैध शराब और अवैध रेत उत्खनन एवं खनिज उत्खनन हमारे जिले में तेजी से पैर पसार रहा है, जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन, खनिज विभाग की आंखों के सामने धड़ल्ले से उत्खनन जारी है, किसी भी प्रकार की कार्रवाई ना होना निश्चित दुर्भाग्यपूर्ण है।
वीरेंद्र बिहारी शुक्ला ,जिलाध्यक्ष कांग्रेस कमेटी, डिंडोरी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *