डिंडौरी मध्यप्रदेश

अनुपयुक्त स्थल पर कराया गया 10 लाख रुपये का चैकडेम निर्माण,किसान ने बनाया मेढ़

सबसे पहले शेयर करें

 

– 10 लाख रू की लागत से निर्मित चैकडेम में कराया समतलीकरण

– सचिव एवं उपयंत्री मन्ना लाल जाधव पर मनमानी पूर्वक चैकडेम निर्माण कराने का आरोप

डिंडौरी। सरकार द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में चैकडेम एवं स्टाॅप डेम के माध्यम से छोटे – छोटे नालों में बह रही पानी को रोकने का प्रयास किया जा रहा है,जिससे चैकडेम के कैचमेंट क्षेत्र में पानी एकत्रित रहे। साथ ही स्थानीय किसानों को खेतों में सिचाईं तथा दैनिक निस्तार के साथ ही भूमिगत जल समृद्ध हो , इसी उददेष्य से सरकार द्वारा लाखो करोड़ो रू पानी की व्यय कर निर्माण कार्य कराया जा रहा है,किंतु जिम्मेदारों के द्वारा निर्माण कार्यों के नाम से घटिया तरीके से मनमानीपूर्वक कार्य कराकर लाखो रू बंदरबाट किया जा रहा है। मामला जनपद पंचायत अमरपुर के ग्राम पंचायत भपसा के पोषक ग्राम नेवसा के रोरा नाला में वित्तीय वर्ष 2020 – 21 में 10 लाख रू की लागत से चैकडेम निर्माण कराया गया है। जहाॅ पर अभी 10 – 15 दिन पहले भुमि स्वामी के द्वारा चैकडेम के उपर समतलीकरण करा दिया गया है। भूमि स्वामी ने बताया कि जिस स्थान में चैकडेम निर्माण कराया गया है, वहाॅ पर थोड़ा सा नाला है,वहीं दोनो तरफ खेत है। चैकडेम निर्माण कराने से पहले ग्राम पंचायत के सरपंच एवं सचिव को मना किया गया था,किंतु मनमानी तरीके से स्वीकृत कर निर्माण करा दिया गया है। उन्होंने कहा कि चैकडेम में पानी भरने एवं रिसाव के कारण दोनों तरफ के फसलें नुकसान हा रही थी जिसके बजह से खेत को समतलीकरण कराया गया है।

गुणवत्ताहीन कराया गया चैकडेम का निर्माण
सरपंच,सचिव एवं उपयंत्री के द्वारा मापदंड को दरकिनार कर पूरी तरह से चैकडेम का घटिया निर्माण कराया गया है। ग्रामीणों ने बताया कि चैकडेम निर्माण में घटिया निर्माण कराने से कारण चैकडेम की साईडवाल की दीवाल में दरार हो गई है। साथ ही साचिव एवं उपयंत्री के द्वारा सरकार को लाखो रू की आर्थिक क्षति पहुॅचाया गया है।

 

सहायक यंत्री के कार्यप्रणाली पर उठ रहे सवाल
ग्राम पंचायत नेवसा में जिस तरह निर्माण कार्यों में भृष्टाचार किया जा रहा है,उससे स्पष्ट हो रहा है कि उपयंत्री मन्नालाल जाधव एवं सहायक यंत्री के द्वारा निर्माण कार्य के दौरान चैकडेम की गुणवत्ता की देखरेख एवं कार्य स्थल की निरीक्षण नही किया गया है। जिसके चलते निर्माण ऐजेंसी के द्वारा मापदंडो को दरकिनार करते हुए स्वयं को अधिक आर्थिक लाभ पहुॅचाने के फिराक में घटिया निर्माण कराया गया है। बताया जा रहा है कि उच्चाधिकारियों के द्वारा गड़गड़ी करने वाले जिम्मेदारों के विरूध्द किसी प्रकार की कार्यवाही नही करने के कारण हौसले बुलंद है।

इनका कहना है,,
जिस स्थान में चैकडेम निर्माण कराया गया है वह नाला ही है,खेत में नही आता,किंतु वहाॅ पर भूमि स्वामी के द्वारा खेत समतलीकरण करा दिया गया है,उसकी जानकारी नही है।
सरवन प्रजापति,सहायक सचिव

मामले की पूरी जानकारी भेजिये,मै जल्द ही जाॅच कराउॅगी।
श्रीमती नंदा भलावे, जिपं.सीईओ डिंडौरी

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *