डिंडौरी मध्यप्रदेश

जयस ने विभिन्न समस्याओं को लेकर केंद्रीय मंत्री को सौंपा ज्ञापन

सबसे पहले शेयर करें

– प्रदेश अध्यक्ष इंद्रपाल मरकाम समेत जयस कार्यकर्ता रहै मौजूद
डिंडौरी। इंदिरा गांधी राष्ट्रीय जनजाति विश्वविद्यालय अमरकंटक में आयोजित स्वतंत्रता संग्राम में जनजाति नायकों की भूमिका कार्यक्रम में उपस्थित केंद्रीय राज्य मंत्री भारत सरकार फग्गन सिंह कुलस्ते को जय आदिवासी युवा शक्ति जयस अनूपपुर के तत्वधान में विश्वविद्यालय से संबंधित एवं जिला अनूपपुर के विभिन्न मुद्दों को लेकर ज्ञापन सौंपा गया है। केंद्रीय विश्वविद्यालय अमरकंटक स्थापना वर्ष 2008 में आदिवासी छात्रों को उच्च शिक्षा में अवसर देने के लिए तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने इंदिरा गांधी राष्ट्रीय जनजाति विश्वविद्यालय अमरकंटक की स्थापना की गई थी।

 

 

 

 

विश्वविद्यालय की स्थापना के समय क्षेत्रीय आदिवासियों को उच्च शिक्षा में दाखिल उनके संस्कृति का संरक्षण उनके आर्थिक विकास सामाजिक विकास राजनीतिक विकास संभव हो सके के उद्देश्य को लेकर विश्वविद्यालय की स्थापना की गई थी,परंतु आज विश्वविद्यालय स्थापना वर्ष के बाद क्षेत्रीय आदिवासी छात्र छात्राओं को विश्वविद्यालय में प्रवेश लेने के लिए बहुत कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। जयस अनूपपुर ने विश्वविद्यालय अमरकंटक में स्नातक प्रथम वर्ष से पीएचडी तक क्षेत्रीय अनुसूचित जनजाति समाज के छात्रों को 50 प्रतिषत आरक्षण की मांग की है,ताकि इस जिले में उच्च शिक्षा के क्षेत्र में विकास संभव हो सके।

 

 

 

आदिवासी धार्मिक आस्था का केंद्र लिंगो गढ़ के सौंदरीयकारण, पुष्पराजगढ़ विधानसभा क्षेत्र में हो रहे अवैध खनन को रोकने के लिए तत्काल निर्देशित करने का आग्रह किया गया, वर्तमान में संपूर्ण मध्यप्रदेश में हो रहे आजाद अध्यापक शिक्षक संघ की लंबित मांगों में प्रमुख मांग पुरानी पेंशन की बहाली सहित अन्य क्षेत्रीय मुद्दों को लेकर ज्ञापन सौंपा गया है। ज्ञापन के दौरान जयस के प्रदेश अध्यक्ष इंद्रपाल मरकाम, जयस प्रदेश महासचिव राजेश सराठिया, जयस सम्भागीय संरक्षक अनमोल सिंह परस्ते, जिला प्रभारी दिनेश श्याम, जयस जिला अध्यक्ष राम प्रसाद धुर्वे, कोषाध्यक्ष गजरूप सिंह धुर्वे, मोती नेटी, रामराज आर्मो आदि कार्यकर्ता शामिल रहे।

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.